Current affairs 11 may 2018

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 11 मई 2018 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से भारत और पनामा समझौता और यूनिसेफ रिपोर्ट शामिल है.

भारत और पनामा ने दो समझौतों पर हस्ताक्षर किये

भारत और पनामा ने राजनयिक और आधिकारिक पासपोर्ट धारकों को वीज़ा में छूट दिए जाने संबंधी समझौते पर हस्ताक्षर किये. इसके अतिरिक्त दोनों देशों ने कृषि क्षेत्र में सहयोग के लिए भी समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं. उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू की ग्वाटेमाला, पनामा और पेरू जैसे तीन देशों के साथ भारत के संबंधों को मजबूत करने हेतु उनकी पहली आधिकारिक विदेश यात्रा का यह दूसरा चरण था.

संयुक्त वक्तव्य में कहा गया कि दोनों देशों के बीच हुए समझौते दोनों देशों के साझा मूल्यों एवं वचनबद्धता पर आधारित हैं. ये संबंध हमारे सामान्य मूल्यों जैसे लोकतंत्र, बहुलवाद, बहु-सांस्कृति तथा कानून के शासन के प्रति आदर को दर्शाते हैं.

अमेरिका ने ईरान पर नये प्रतिबंध लगाने की घोषणा की

अमेरिकी राजकोषीय विभाग ने ईरान के छह लोगों को कथित रूप से इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स (आईआरजीसी) के साथ जुड़े होने के कारण प्रतिबंधित कर दिया. इसके साथ ही तीन व्यावसायिक कम्पनियों पर भी आर्थिक प्रतिबंध लगाने की घोषणा की गई है.

जिन लोगों पर अमेरिका द्वारा प्रतिबन्ध लगाया गया है उनके नाम हैं – मेगदाद अमिनी, मोहम्मद हसन खोदाई, सैयद नजफपुर, मसूद निकबख्त, फोअद सलेही एवं मोहम्मदरज़ा खेदमती. डोनाल्ड ट्रम्प ने यह भी घोषणा की कि अमेरिका फिर से ईरान पर प्रतिबंध लगाएगा. ट्रम्प की इस घोषणा के बाद फ्रांस, जर्मनी एवं इंग्लैंड ने ट्रम्प की घोषणा पर खेद व्यक्त किया.

भारत में 41.6% नवजात बच्चे जन्म के एक घंटे के भीतर स्तनपान करते हैं: यूनिसेफ
यूनिसेफ द्वारा जारी की गई रिपोर्ट के अनुसार भारत में मात्र 41.6% बच्चे ही जन्म के एक घंटे में मां का दूध पी पाते हैं. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले वर्षों में भारत के 95% बच्चे स्तनपान किया करते थे.

यूनिसेफ ने भारत के राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) डाटा का हवाला देते हुए कहा है कि 54.9% बच्चे भारत में जन्म के समय से लगभग 2.9 माह तक स्तनपान करते हैं. पानी का इस्तेमाल करने तथा अन्य तरल पदार्थ दिए जाने के कारण बच्चों का स्तनपान छूट जाता है.

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 2018 मनाया गया
भारत में 11 मई को राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस मनाया गया. इस दिवस की शुरुआत वर्ष 1998 में हुए पोखरण परमाणु टेस्ट से हुई थी. यह दिवस भारत की विज्ञान में दक्षता तथा प्रौद्योगिकी में विकास को दर्शाता है. इस अवसर पर तकनीकी संस्थानों में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं.

इस दिन प्रस्तुतिकरण, इंटरैक्टिव सत्र, प्रश्नोत्तरी, व्याख्यान और प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया जाता है. 11 और 13 मई, 1998 को राजस्थान के पोखरण परमाणु स्थल पर पांच परमाणु परीक्षण किये थे. इसके उपलक्ष्य में आधिकारिक तौर पर भारत में राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस के रूप में 11 मई को घोषित किया.

संसदीय समितियों की रिपोर्ट को अदालत में चुनौती नहीं दी जा सकती: सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अदालतें संसदीय समिति की रिपोर्ट पर न्यायिक संज्ञान ले सकती हैं, लेकिन उनकी वैधता को चुनौती नहीं दी जा सकती. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि लोकतंत्र के तीनों स्तंभों के अधिकार अलग-अलग हैं और अदालत को विधायिका तथा न्यायपालिका के बीच संतुलन बनाए रखना है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अदालतें कानून के अनुरूप विधिक व्याख्या के लिए संसदीय समिति की रिपोर्ट का संदर्भ दे सकती हैं. यह निर्णय पांच न्यायाधीशों की पीठ ने लिया जिसमें मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा और जस्टिस ए के सिकरी, एएम खानविलकर, डीवाई चंद्रचुद और अशोक भूषण शामिल थे.

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *